Home

Director’s message

प्रात: वन्दनीय गोस्वामी तुलसीदास की कालजयी कृति ‘रामचरित मानस’ के किष्किन्धाकाण्ड में एक बडी मार्मिक चौपाई है- “कवन सो काज कठिन जग माहीं। जो नहिं होइ तात तुम्ह पाहीं॥ मेरे विचार से यह सबके लिए उपयोगी और प्रेरणास्पद है। यह उस समय की घटना है जब सम्पूर्ण वानरदल माँ जानकी की खोज में था। सभी लोग नीरनिधि के तट पर बैठकर सेनाधिपति जाम्बवानजी के समक्ष अपनी अपनी शक्ति सामर्थ्य की विरुदावली से उन्हे सांत्वना दे रहे थे। उसी दौरान उनकी दृष्टि अचानक उस मुखार बिन्द को ढूढ्ने लगी जो उस समूह से गायब थी। गुहार लगाई गई—हनुमान! हनुमान ! हनुमान जाम्बवान के पास पहुंचे। जाम्बवान ने उन्हे माँ जानकी को खोजने की नैतिक जिम्मेदारी सौंपते हुए कहा-

“रामकाज लगि तव अवतारा।
सुनहिं भयउ पर्वताकारा।”

यहाँ विचार करने की बात यह है कि जाम्बवान ने हनुमान को ही क्यों ढूंढा और ढूंढने की जिम्मेदारी भी उन्हे ही क्यों दी? जबकि रामदल में उनसे बडें-बडें वीर और योद्धा थे। इसका सटीक जवाब है कि उतना आत्मबल किसी में नहीं था जितना प्रभु हनुमान में।

ध्यान रहे! यदि आप में हनुमान जैसा या एकलव्य जैसा आत्मबल है तो आपको कोई लक्ष्य पाने से हिला या डिगा नही सकता है।

इसीलिए कहा गया है कि मन के हारे हार है मन के जीते जीत। मन को अगर आपने जिता लिया या जीत लिया तो मैं 110% कहता हूँ कि आप आगे होंगे और आपका लक्ष्य आपके पीछे।

अंग्रेजी में एक कोटेशन है –

Keep 3 words in your pocket:

TRY, TRUE, TRUST

TRY for BETTER FUTURE

TRUE with YOUR WORK

TRUST in YOURSELF

And then SUCCESS is YOURS.

हनुमानजी को अपने ऊपर TRUST था इसीलिए वो अपने कार्यो को फलीभूत कर पाए। एकलव्य को अपने स्वनिर्मित मिट्टी के द्रोणाचार्य मे इतना TRUST था कि उसी TRUST ने उसे अर्जुन से भी बडा धनुर्धर बना दिया इस TRUST की कीमत ने साक्षात द्रोण से शिक्षा ग्रहण करने वाले अर्जुन को वह स्थान नहीं दिया जो एकलव्य को मिला।

मेरे प्रिय मित्रो मैं सिर्फ इतना कहना चाहता हूँ कि लक्ष्य कोई भी बडा हो या छोटा वह अपराजेय नहीं है यदि आपको अपने पर TRUST है। यदि आपने TRY, TRUE और TRUST को सही तरीके से अपने जीवन मे उतार लिया तो सफलता आपके कदमों में होगी।

अंत मे मै इन शब्दों के साथ वाणी को विराम देता हूँ-

“मैं आदी हूँ मुझे मजधार में ही ले चलो।

मुझे हरगिज नही डुबो सकती, डुबे हुओं की दास्ताँ॥“

 

आपका अपना-

 Dr. R.K.Tiwari

Director

Chayan  Classes

(A Unit of चयन IAS)